मेरे सारे सपने सच हो जाते

मोहब्बत, इबादत और इश्क़ एक भीनी खुशबू की तरह है ।
जिन्हें कभी दुनिया की सारी दौलत मिलाकर भी नहीं ख़रीदा जा सकता ।।
बस उसे पाया जा सकता है एक सुन्दर धड़कते दिल के द्वारा ।
और दूर बैठे हँसते खेलते साहिल के द्वारा ।।

दौलत से खरीदता मैं खुशियाँ और इन्हें डाल देता सबकी झोली में ।
खुश देख इंसानो को दिख जाता भगवान मुझे इस खोली में ।।

सारे सपने मेरे सच हो जाते अगर हो जाते हम उनसे दरमियाँ ।
और फिर हम होते इस दुनियां के सातवे आसमान पर ।।

 

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

मुहब्बत खुदा की नेमत है

 

 

अगर दुनिया मे मुहब्बत ना होती !
तो शायद इंसान मे इन्सनियत न होती !!

क्युकी मुहब्बत खुदा की वो नेमत है !
जो इंसान को खुदा बना देती है !!

काश एसा हो जाता कि मेरे पास दुनिया की सारी दौलत होती !
और इससे दुनिया के लिये मुहब्बत और अमन खरीद लेते !!

जिससे दुनिया मे केवल अमन और सुकून होता !
काश की ये मेरा सपना सच हो जाता!!

 

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

मोहब्बत बहुत खूबसूरत ऐहसास है

मोहब्बत वो है जिसे लफज़ो मे बयां नही कर सकते ।
मोहब्बत वो है जिसको हम नकार भी नही सकते ।

मोहब्बत बहुत खूबसूरत ऐहसास है, जो हर इंसान की चाहत है ।
मोहब्बत दिल से दिल मिलाती है,  जिसे पाकर मिलती राहत है ।

मोहब्बत को एक बार अपनाकर तो देखो ।
दिल खुश हो उठेगा ये वादा है मेरा ।।
मोहब्बत को एक बार गले लगाकर तो देखो ।
दिल झूम उठेगा ये वादा है मेरा ।।

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

चाहकर भी किसी को भूल ना पाना

चाहकर भी किसी को भूल ना पाना मोहब्बत है

रह रहकर हर पल किसी का याद आना मोहब्बत है

किसी की पलकों पर सपने की तरह बस जाना मोहब्बत है

किसी की आँखो का आँसू बन जाना मोहब्बत है

जो तन्हाइयों मे भी साथ रहे वो मोहब्बत है

जो रुसवाइयों मे भी साथ चले वो मोहब्बत है

जो दर्दे-दिल को दावा दे वो मोहब्बत है

यार रूठे तो खुद को सज़ा दे वो मोहब्बत है

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

अगर दुनिया में मुहब्बत ना होती

अगर इस दुनिया में मुहब्बत ना होती?

दो दिलो के बीच चाहत न होती
लोगो के चेहरों पर मुश्कुराहट ना होती

किसी से दूर होकर भी मुलाकात ना होती
दुसरो की ख़ुशी में खुद को ख़ुशी ना होती

बगीचो के फूलों में खुशबु ना होती
बहते समुन्दर में गहराई न होती

किसी गम को सहने की ताकत ना होती
किसी के दिल में सच्चाई ना होती

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

मोहब्बत का आगाज़

यह ता-उमर का प्यार नहीं
बस कुछ मोहलत का साथ है

सरारत जो दिल ने की है
बस उसी का भुगतान है

हर रोज़ गुज़ारिश होती है
बस उनके ही दीदार की

यह किसी कारवां की शुरुवात नहीं
बस मोहब्बत का आगाज़ है

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

1 2