Please download our Online Radio App from Google Play Store. Click Here. close ×
+

तोड़ दिया वादा उसने Pizza जैसा

थी वो शाम भी अजीब सी उस ऑफर के जैसा…
जैसे फ्री डेलिवरी हो 30 मिनट में उस Pizza के जैसा

चुरा के दिल बड़े प्यार से उसने
काटा कई भागों में पिज़्ज़ा के जैसा

बदलता हैं हर वक़्त उसका मूड ऐसा
कभी Onion कभी Cheese कभी margarita जैसा

फिर कहती है मुझे चाहती नही,
और तोड़ दिया वादा उसने Pizza जैसा

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

मेरी जिंदगी एक आइना है

ये मेरी जिंदगी एक आइना है
देखो जरा तुम्हे क्या नज़र आया
खो जाता है अँधेरे में दिल अक्सर
पूछते हैं फिर की दर्द कहाँ से आया

झूठ का साथ देता नहीं मैं यूँ तो
क्यूँ तुम्हे इसमें नज़र प्यार आया
मैं तनहा जी नहीं सकता ऐसे
फिर क्यूँ तुझ पर ही प्यार आया

उसका हर वादा झूठा ही होगा
फिर भी उस पर ऐतबार आया
उसके कहा की तुम आइना हो
इसमें चेहरा मुझे अपना नज़र आया

इस जिन्दगी में न मिल सकेंगे हम
फिर भी क्यूँ तुम पर ही प्यार आया
प्यार पाकर भी तनहा हो गया मैं
फिर पूछते हैं की दर्द कहाँ से आया

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest

दिल में बसा कर

दिल में बसा कर उसका चेहरा खो गया मैं कहीं
यूँ तो हर ज़िक्र में होता है उसका यकीन
याद उसे ही करता हूँ अब खुश हूँ या गमहीं
ढूँढ ही लेता हूँ वो रास्ता जिसकी मंज़िल हो तुम्ही
लाख कोशिशों से पाया है उसे की होता नहीं यकीन
करता हूँ रब से अब यही इलतेज़ा ना बिछड़ेंगे कभी
मिल गयी है वो जिसकी कमी थी अरसों से इस ज़िन्दगी में
बसी है मेरे जहाँ में उसकी ही तस्वीर हर कहीं

Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest