Please download our Online Radio App from Google Play Store. Click Here. close ×
+

वो बन गए जान महफ़िल की

वो जगमगा रहा हैं दिया सा
मैं जल रही हूँ बत्ती सी|

वो महका सा हैं खुशबू सा
मैं मुरझा रही हूँ फूलो सी|

वो बन गए जान महफ़िल की
और मैं खो रही हूँ तन्हाई मैं|

वो खुश जी रहा हैं अपनी दुनिया मैं
और मैं जीती रही उसकी याद मैं|

Harshita Shrivastav
She is intelligent, she is pretty, she has different prospective on everything... so enjoy her views on everything by her shayries...
Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest



No Response

Leave us a comment


No comment posted yet.

Leave a Reply