वो बचपन के दिन और बारिश का मौसम

वो बचपन के दिन और बारिश का मौसम आज भी याद है !
छोटी छोटी नदियो मे, अपनी कस्ती तैराना आज भी याद है !!
बादल के गरजने,बिजली के चमकने पर शोर मचाना आज भी याद है !
मौज- मस्ती की होड़ मे, पुरानी रंजिशे भुलाना आज भी याद है !!
भीगते नाचते कीचड़ की गलियो मे दौड़ लगाना आज भी याद है !
कीचड़ वाले पानी मे यारो को भिगोना आज भी याद है !!
मंजिले पाने की होड़ मे बचपन की यादो का अफ़शाना आज भी खास है
ना जाने कहाँ गया वो बचपन,कहाँ गयी वो बारिशे बस उन यादो का तराना पास है !!

Rashmi Vishwakarma
She is warmhearted and modest. She is reticent but Her words will surely do great impact on your heart.
Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest



No Response

Leave us a comment


No comment posted yet.

Leave a Reply