मोहब्बत का आगाज़

यह ता-उमर का प्यार नहीं
बस कुछ मोहलत का साथ है

सरारत जो दिल ने की है
बस उसी का भुगतान है

हर रोज़ गुज़ारिश होती है
बस उनके ही दीदार की

यह किसी कारवां की शुरुवात नहीं
बस मोहब्बत का आगाज़ है

Harshita Shrivastav
Intelligent Shayar
She is intelligent, she is pretty, she has different prospective on everything... so enjoy her views on everything by her shayries...
Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest



No Response

Leave us a comment


No comment posted yet.

Leave a Reply