Please download our Online Radio App from Google Play Store. Click Here. close ×
+

मैं जीती रही उसकी यादों में

मैं चाहती रही उसे खुद से भी ज्यादा
वो मेरी चाहत को अपनी जिंदगी से मिटाता गया|

मैं देती रही हर कसम पर साथ उसका
वो मेरी प्यार की कस्ती को सागर में डूबाता गया|

मैं करती रही हर मोड़ पर इंतज़ार उसका
वो मेरी जिंदगी से हर पल दूर जाता गया|

मैं जीती रही उसकी यादों में और
वो मेरी यादों को अपने दिल से भूलाता गया|

Nutan Vishwakarma
She is very charming and affectionate. She is little bit emotional so does her words. So dive in the river of emotions with his own shayries.
Share : facebooktwittergoogle plus
pinterest



No Response

Leave us a comment


No comment posted yet.

Leave a Reply